Zealandia Kya Hai (Zealandia : The 8th continent of the World)

Zealandia Kya Hai ?

Zealandia : The 8th Continent of The World

जीलेंडिया : दुनिया का आठवां महाद्वीप

Zealandia Kya Hai : Zealandia दुनिया का आठवां महाद्वीप, सुनकर आश्चर्य हुआ न आपको! हाँ हाँ दुनिया का आठवां महादेश Zealandia (जीलेंडिया)Zealandia Kya Hai के इस लेख में जानेंगे दुनिया के आठवें महाद्वीप Zealandia (जीलेंडिया) के बारे में, तो आईए जानते हैं की Zealandia Kya Hai

चर्चा में क्यों ?

  1. हल ही में दुनिया के आठवे महाद्वीप का नक्शा जारी किया गया है

  2. यह नक्शा न्यूजीलैंड के GNS संस्था के अनुसंधानकर्ताओं ने जारी किया है
  3. इस आठवें महाद्वीप का नाम है जीलेंडिया
  4. इस महाद्वीप के Bathymetry मैप और टेक्टोनिक मैप दोनों ही तरह के नक़्शे जारी किए गए हैं


Zealandia (जीलेंडिया) दुनिया का आठवां महाद्वीप हैं, सुनकर चौंक गए न आप सुनने में भले ही ये बात आश्चर्यजनक लगे लेकिन ये सच है दक्षिणी प्रशांत महासागर की लहरों में 3500 फीट नीचे छुपा है दुनिया का ये आठवां महाद्वीप Zealaindia (जीलेंडिया)

वैज्ञानिकों ने इस डूबे हुए महाद्वीप को Zealandia (जीलेंडिया) नाम दिया हैविश्व में ज्ञात रूप में सात महाद्वीप हैं जिसमें अन्टार्टिका, एशिया, ऑस्ट्रेलिया,अफ्रीका, यूरोप, दक्षिण अमेरिका और उत्तरी अमेरिकाशामिल हैजहाँ वर्ष 2017में वैज्ञानिकों ने न्यूजीलैंड तथा इसके निकट महासागरीय सतह के नीचे एक आठवें महाद्वीप, Zealandia (जीलेंडिया),के अस्तित्व की पुष्टि की थीहालांकि इस महाद्वीप की खोज वैज्ञानिकों ने 2017 में ही कर ली थी लेकिन इसका मानचित्रण न हो पाने की वजह से इसकी चौड़ाई के बारे में सटीक अनुमान नहीं लग पा रहा थान्यूज़ीलैण्ड के जी ऍन एस साइंस के शोधकर्ताओं ने घोषणा की की उन्होंने महाद्वीप के रूप और आकार का पता लगा लिया है
इन शोधकर्ताओं ने मानचित्र को एक वेबसाइट पर डाल दिया है जिससे इसके ज़रिये लोगों को इस महाद्वीप की जानकारी आभासी तौर पर हासिल हो सकेभुभौतिकविद निक मोर्टिमर और उनके सहयोगियों ने इस महाद्वीप के इर्द गिर्द समुद्र तल की गहराई इसकी संरचना और Zealandia (जीलेंडिया) टेकटोनिक प्लेट की सीमाओं की स्थिति को रेखांकित कियामानचित्र के ज़रिये कई नयी सूचनाएं प्रकाश में आई हैं इन सूचनाओं में महाद्वीप के बनने और लाखों साल पहले इसके पानी में डूबने जैसी जानकारियों को साझा किया गया है
जीलेंडिया का इलाका क्षेत्रफल में तकरीबन 50लाख वर्ग किलोमीटर तक फैला हुआ है यह ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप के क्षेत्रफल के आधे भाग के बराबर है, लेकिन इस महाद्वीप का महज़ 6 फीसदी ही समुद्र तल के ऊपर है बाकी भाग 94 फीसदी समुद्र तल के नीचे डूबा है
यही वजह है की वैज्ञानिकों को इसका सर्वेक्षण करने में खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ता हैमानचित्र के ज़रिये इस डूबे हुए महाद्वीप को समझने में काफी मदद मिलीमोर्टिमर और उनके दल ने महाद्वीप और इसके आस पास के समुद्र तल का गहनता से अध्ययन कियाइसके आधार पर तैयार किया गया मानचित्र महाद्वीप पर मौजूद पहाड़ों और समुद्र तल तक उठे हुए रिज को बारीकी से दिखाता है
Zealandia (जीलेंडिया) महाद्वीप की परिकल्पना महज़ 25साल पुरानी है, हालांकि भूगर्भवेत्ता ब्रूस लुएंदिक ने इस शब्द को साल 1995 में इज़ाद कियालुएंदिक ने बताया की Zealandia (जीलेंडिया) शब्द शरुआत में न्यूज़ीलैण्ड और इसके आसपास के छोटे मोठे द्वीपों के लिए इस्तेमाल किया जाता थालाखों साल पहले ये भाग गोंडवाना लैंड से अलग हो गया था और धीरे धीरे इसका काफी हिस्सा पानी के नीचे डूब गया

गौरतलब है की धरती जैसी आज दिखाई देती है वैसी पहले नहीं थीधरती पर मौजूद महाद्वीप और महासागर पहले यूँ नहीं थे जैसे आज दिखाई देते हैंहमारी धरती पर पहले एक सुपर कांटिनेंट मौजूद था, जिसे पैंजिया के नाम से जाना जाता थावक्त के साथ यह विशालकाय महाद्वीप दो भागों में बाँट गयाउत्तर वाला खंड लॉरेशिया कहलाया और इससे यूरोप एशिया और उत्तरी अमेरिका जैसे महाद्वीपों का निर्माण हुआ जबकि दक्षिणी भाग जिसे गोंडवानालैंड कहा गयाइससे दक्षिणी महाद्वीपों का जन्म हुआ

धरती के भीतर और बाहर बलों के कारण इन विशाल भू भागों में उथल पुथल चलती रही और इस वजह से Zealandia (जीलेंडिया) नामक महाद्वीप तकरीबन 5 करोड़ साल पहले गोंडवाना से अलग होकर समंदर के नीचे चला गया2017 तक Zealandia (जीलेंडिया) को महाद्वीप का दरज़ा नहीं दिया जाता था इसे मेडागास्कर की तरह एक छोटा द्वीप माना जाता था, लेकिन इसमें महाद्वीप का दर्जा पाने की सारी खुबिया मौजूद हैं जैसे स्पष्ट सीमा रेखा , 10 लाख किलोमीटर क्षेत्रफल और समुद्र के परत से मोटी परत

Leave a Comment